Saturday , April 20 2019
Home / उत्तराखण्ड / उत्तराखंड : स्वाइन फ्लू से एक और मौत, एक महीने में नौ लोगों की जा चुकी जान
स्वाइन फ्लू 11

उत्तराखंड : स्वाइन फ्लू से एक और मौत, एक महीने में नौ लोगों की जा चुकी जान

देहरादून। स्वाइन फ्लू की बीमारी फैलाने वाला वायरस एच-वन एन-वन अब दिन प्रतिदिन घातक होता जा रहा है। इसकी चपेट में आने वाले मरीजों की जान सासत में है। स्वाइन फ्लू से फ्रांसीसी नागरिक की मौत हो गई। वह सात जनवरी से मैक्स अस्पताल में भर्ती थे। चिकित्सकों के मुताबिक, मरीज के कई अंग काम नहीं कर रहे थे।

इस बीच वह स्वाइन फ्लू से भी ग्रसित हो गए। अस्पताल प्रबंधन ने फ्रांसीसी नागरिक की मौत की जानकारी स्वास्थ्य सचिव, स्वास्थ्य महानिदेशक और सीएमओ सहित सभी अफसरों को दे दी।

सीएमओ डॉ. एसके गुप्ता ने बताया कि एक एनजीओ में काम करने वाले फ्रांस निवासी 72 वर्षीय बुजुर्ग को सात जनवरी को हालत बिगड़ने के कारण मैक्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

अस्पताल के चिकित्सकों के मुताबिक मरीज के लीवर, ह्दय समेत कई अंग काम नहीं कर रहे थे। जांच में उन्हें स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई थी। लेकिन रविवार की शाम उसकी मौत हो गई।
दो दिन पहले मृतक की बहन फ्रांस से देहरादून पहुंच चुकी है। बताया जा रहा है कि फ्रांसीसी नागरिक बीते 15 वर्षों से भारत में रह रहा था। उल्लेखनीय है कि स्वाइन फ्लू बीमारी से पिछले एक माह के भीतर नौ मरीजों की मौत हो चुकी है।

About एच बी संवाददाता

Check Also

IMG_1931-001

आईएम्एस यूनिसन यूनिवर्सिटी में ‘रूरल इकनोमिक चैलेंजेस’ पर  राष्ट्रीय सम्मलेन

देहरादून | आईएमएस यूनिसन यूनिवर्सिटी में आज दो दिवसीय  राष्ट्रीय सम्मेलन का उद्गाटन किया गया। सम्मलेन   ‘रूरल चैलेंजेस  इकोनॉमिक्स –  यूनियन बजट  की भूमिका  ‘ पर केंद्रित रहा । इस अवसर पर सहायकमहानिदेशक आईसीएआर डॉ कुसुमाकर शर्मा मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद रहीं । इस अवसर पर डीन डॉ कल्याणी रणराजन डे चेयर रहीं और सम्मेलन के सह अध्यक्ष डॉ अजय के सिंह रहे|अतिथियों का स्वागत कुलाधिपति डॉ गुरदीप सिंह द्वारा किया गया वहीँ  डॉ कल्याणी रंगराजन ने कांफ्रेंस में भाग लेने के लियासबका आभार  व्यक्त  किया भारत भर से  इक्कीस विश्वविद्यालयों, कॉर्पोरेट और सिविल सेवकों से प्राप्त कुल 52 शोध पत्र  प्रस्तुत किए गए । इस अवसर पर बोलते हुए  मुख्य अतिथि डॉ कुसुमाकर शर्मा ने कहा, “सामाजिक नीतियां आर्थिक नीतियों की कीमत पर नहीं होनी चाहिए। भारत में आज के समय किसान होना बहुत आसान नहीं  है। सभी कारक अनुकूल परिस्थितियोंके खिलाफ बढ़ रहे हैं। मिट्टी की गुणवत्ता घट रही है और वैकल्पिक कारक अधिक आकर्षक होते जा रहे हैं। भारत में कृषि विकास लोप हो गया है। हमने चयनित फसलों के लिए बहुत सी फसलों की अनदेखी की है।“ उन्होंने कई सर्वेक्षण और अध्ययन भी प्रस्तुत किए। उन्होंने कृषि के राज्यवार परिदृश्य पर प्रकाश डाला। सत्र की शुरुआत  …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *