Monday , December 10 2018
Home / Uncategorized / राज्य सिविल प्रवर अधीनस्थ सेवा परीक्षा-2012 का रिजल्ट जारी, अल्मोड़ा की सौम्या बनी टॉपर
images (1)

राज्य सिविल प्रवर अधीनस्थ सेवा परीक्षा-2012 का रिजल्ट जारी, अल्मोड़ा की सौम्या बनी टॉपर

उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने उत्तराखंड सम्मिलित राज्य सिविल प्रवर अधीनस्थ सेवा परीक्षा-2012 का रिजल्ट जारी कर दिया है। पदवार अभ्यर्थियों के नाम, रोल नंबर के साथ कट ऑफ लिस्ट भी जारी कर दी गई। पूर्व में आईएएस परीक्षा में सफल रहीं सौम्या गुरुरानी ने डिप्टी कलेक्टर पद पर पहला स्थान हासिल किया है।
आयोग की ओर से पीसीएस 2012 के लिए सितंबर 2014 में विज्ञापन जारी किया गया था। लिखित परीक्षा जनवरी 2016 और साक्षात्कार मई से जून 2017 तक कराए गए थे।

आयोग ने श्रेष्ठताक्रम के अनुसार चयनित अभ्यर्थियों के नाम और रोलनंबर जारी कर दिए। डिप्टी कलेक्टर पद पर सौम्या गुरुरानी पहले, अभय प्रताप सिंह दूसरे और आकाश जोशी तीसरे स्थान पर रहे। डिप्टी कलेक्टर के लिए 15 अभ्यर्थी सफल घोषित किए गए हैं। पुलिस उपाधीक्षक पद पर 20, जिला समाज कल्याण अधिकारी पद पर छह, सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी पद पर पांच और कार्य अधिकारी जिला पंचायत पद पर छह अभ्यर्थी सफल घोषित किए गए हैं।

खंड विकास अधिकारी पद के लिए 28, वित्त अधिकारी पद के लिए 21, जिला बचत अधिकारी पद के लिए एक, परिवहन कर अधिकारी-1 पद के लिए 10, जिला युवा कल्याण एवं प्रांतीय रक्षक दल अधिकारी पद के लिए पांच, जिला पूर्ति अधिकारी पद पर दो और परिवीक्षा अधिकारी समाज कल्याण विभाग पद पर एक अभ्यर्थी को सफल घोषित किया है। बाल विकास परियोजना अधिकारी, महिला एवं बाल विकास अधिकारी पद पर 34, सूचना अधिकारी पद पर एक, उप निबंधक वित्त विभाग पद पर 13, प्रचार अधिकारी पद पर एक, जिला पर्यटन विकास अधिकारी पद पर छह अभ्यर्थी सफल रहे हैं। आयोग के सचिव बंशीधर तिवारी के अनुसार अभ्यर्थियों के अंकों का विवरण, कट ऑफ मार्क्स भी आयोग की वेबसाइट पर जारी कर दिए गए हैं।

 

पहले ही प्रयास में पीसीएस टॉपर बन गई होनहार सौम्या 

अल्मोड़ा की बेटी सौम्या गुरुरानी ने आईएएस की परीक्षा में परचम लहराने के बाद उत्तराखंड पीएससी की परीक्षा में पहला स्थान पर पाकर नाम रोशन किया है। सौम्या का चयन डिप्टी कलेक्टर पद पर हुआ है। सौम्या ने इसी साल आईएएस की परीक्षा में 148वीं रैंक हासिल की है। सौम्या पीसीएस 2016 की परीक्षा के पहले ही प्रयास में टॉप में रही है।

पीसीएस परीक्षा में पहली रैंक प्राप्त कर अव्वल रहने वाली सौम्या गुरुरानी ने एक बार फिर साबित कर दिया कि मेहनत और लगन से कुछ भी हासिल किया जा सकता है। सौम्या ने हिन्दुस्तान को बताया कि कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

गुरुवार को उत्तराखंड पीसीएस का रिजल्ट जारी होते ही परिजनों को एक साल में दूसरी बार अपनी बेटी पर गर्व करने का मौका मिला। गुरुरानीखोला निवासी एसबीआई में उप शाखा प्रबंधक नवीन चंद्र गुरुरानी और जूनियर हाईस्कूल महेला (हवालबाग) में सहायक शिक्षिका नमिता गुरुरानी की बेटी सौम्या ने 2009 में कूर्मांचल एकेडमी अल्मोड़ा से बारहवीं की परीक्षा उत्तीर्ण की। उसके बाद उन्होंने रुड़की इंजीनियरिंग कॉलेज में बीटेक में प्रवेश लिया और 2013 में बीटेक पास आउट हो गईं। बीटेक में भी सौम्या ने गोल्ड मेडल पाया था।

बीटेक के बाद सौम्या का चयन इनफोसिस में हो गया। लेकिन इसमें मन नहीं लगने पर सौम्या ने सिविल सर्विसेज की तैयारी शुरू कर दी। उन्होंने करीब नौ महीने दिल्ली में रहकर कोचिंग भी ली। दिलचस्प बात यह है कि दिल्ली में कोचिंग के बाद सौम्या पिछले दो साल से लगातार अल्मोड़ा में रहकर तैयारी करती रहीं। सौम्या ने पीसीएस की यह परीक्षा 2015 की निकाली है। इसके बाद वह 2016 की पीसीएस परीक्षा का प्री निकाल चुकी है।

 

इंटरनेट में उपलब्ध है पढ़ाई का मैटीरियल 

सौम्या का कहना है कि इंटरनेट में पढ़ाई का पूरा मैटीरियल उपलब्ध रहता है। सौम्या ने बताया कि मेन्स में उन्होंने पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन को वैकल्पिक विषय के रूप में लिया था। सौम्या का छोटा भाई गौतम गुरुरानी भी पंतनगर विवि से बीटेके करने के बाद टीसीएस अहमदाबाद में जॉब कर रहा है। उन्होंने बताया कि सिविल सर्विसेज परीक्षा में सफलता हासिल करने में जहां माता-पिता का पूरा सहयोग मिला।

सौम्या के मुताबिक पहले साल उन्होंने प्रतिदिन सात-आठ घंटा पढ़ाई की और फिर बाद के दो वर्षों में चार-पांच घंटे नियमित अध्ययन करती थीं। उनका कहना है कि सिविल सर्विसेज की तैयारी के लिए धैर्य और लगन की काफी जरूरत होती है। असफल हो जाने के बाद निराश नहीं होना चाहिए।

About एच बी संवाददाता

Check Also

Homework_-_vector_maths

पांचवीं-आठवीं की परीक्षा अब किसी भी उम्र में दी जा सकती है

भोपाल । मध्य प्रदेश में ओपन स्कूल से अब किसी भी उम्र में पांचवीं-आठवीं की बोर्ड …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *