Monday , April 22 2019
Home / देश / समय पर सोने और जागने के हैं फायदे कि जानकर हो जाएंगे हैरान
sote

समय पर सोने और जागने के हैं फायदे कि जानकर हो जाएंगे हैरान

नई दिल्ली :  स्वस्थ रहने के लिए सिर्फ पर्याप्त नींद ही नहीं, बल्कि समय पर नींद लेना और सही समय पर उठना भी बेहद जरूरी है। ऐसा न करना कई रोगों को दावत देना है।  नींद हमारे लिए किसी वरदान से कम नहीं है। लेकिन भागती -दौड़ती जिंदगी में हमारे सोने की दिनचर्या बुरी तरह प्रभावित होती है। एक अच्छी नींद हमारे दिमाग को तरोताजा करने के लिए और शरीर के दूसरे अंगों को आराम देने के लिए बहुत जरूरी है।

स्मार्ट गैजेट ने उड़ाई नींद 
स्मार्टफोन व कंप्यूटर से निकलने वाली कृत्रिम रोशनी हमारी नींद में बुरी तरह खलल डालती है। शोधकर्ताओं के अनुसार, आंखों की कोशिकाएं कृत्रिम रोशनी के संपर्क में आती हैं तो हमारे शरीर की आंतरिक घड़ियां असमंजस में पड़ जाती हैं, जिससे हमारा दैनिक चक्र बिगड़ जाता है और हमारी सेहत पर बुरा असर पड़ता है। हमारी आंखों के पीछे रेटिना नामक एक संवेदी झिल्ली होती है, जिसकी आंतरिक परत में कुछ ऐसी कोशिकाएं होती हैं, जो प्रकाश के प्रति संवेदनशील होती हैं। इसका असर हमारे शरीर की घड़ी पर पड़ता है और पूरा दैनिक चक्र बिगड़ जाता है।

जल्दी उठने के हैं बेहिसाब फायदे

  • सुबह जल्दी उठकर अतिरिक्त ऊर्जा को प्राप्त किया जा सकता है, जो दिन भर ऊर्जावान बनाये रखने और खुशनुमा एहसास से भरने में सहायक है।
  • सुबह उठना आपको फिट रखने और मानसिक रूप से शांत और एकाग्र रखने में सहायक होता है।
  • सुबह की धूप हड्डी व जोड़ों से संबंधित समस्या नहीं आने देती। सुबह का वातावरण और ऑक्सीजन स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद माने जाते हैं।

यदि आपकी भी आदत देर तक सोने की है तो इसे तुरंत बदलना जरूरी है। हाल ही में हुए एक शोध में यह बात सामने आई है कि जो लोग देर तक सोते हैं, उनके व्यवहार में बदलाव आ जाता है । इसका असर हमारे दिमाग पर पड़ता है। शोध में यह पता चला है कि जो लोग स्वाभाविक तौर पर देर से उठते हैं, उनके मस्तिष्क में एक खास तत्व सबसे खराब स्थिति में होता है।

विशेष रूप से दिमाग के उस हिस्से में, जहां से अवसाद और दुख के भाव पैदा होते हैं। इसी कारण देर से उठने वालों को अवसाद और तनाव अधिक होता है। साइंस जर्नल में प्रकाशित एक लेख के अनुसार, जो लोग देर तक सोते हैं, उनके व्यवहार में बदलाव
तो आता ही है साथ ही उनके हार्मोन पर भी बुरा असर
पड़ता है।

देर से उठने के बहुत सारे नुकसान हैं, जिनसे देर-सवेर हमारा शरीर प्रभावित होता है। कई बार हमारा शरीर अपनी अनियमित दिनचर्या को झेलने के लिए तैयार नहीं होता और बहुत सी बीमारियों की चपेट में आ जाता है। देर से उठने के इन नुकसानों पर अपनी नजर बनाए रखें-

  • कैलोरी बर्न नहीं होने के कारण शरीर मोटापा ग्रस्त हो सकता है।
  • वजन अनियमित रूप से बढ़ने लगता है।
  • हार्मोन असंतुलित होने लगते हैं।
  • दिमाग में एंडोर्फिन स्रावित नहीं होने से स्वभाव चिड़चिड़ापन में आ जाता है।
  • धीरे-धीरे डिप्रेशन घेर लेता है।
  • दिल की बीमारी का खतरा बढ़ जाता है ।
  • ज्यादा आराम करने की स्थिति में मांसपेशियों पर बुरा
  • असर पड़ता है।
  • अधिक देर तक सोने से दिमाग पर भी असर पड़ता है और याददाश्त कमजोर होने लगती है।
अच्छी नींद के कुछ बेहतर उपाय
  • सोने से पहले पैरों को गर्म पानी से धोएं।
  • पैरों के तलवों में सरसों के तेल की मालिश करें।
  • कच्चा प्याज खाने से भी नींद अच्छी आती है।
  • रात को गुनगुना दूध पियें।
  • पुदीने की पत्ती को पानी में उबालकर पीने से भी नींद अच्छी आती है।
  • अपने मन को शांत रखें। मन में आने वाले बुरे विचारों को दिमाग से निकाल दें, उसकी अपेक्षा दिन में जो अच्छा हुआ है, उसके बारे में सोचें।
  • रात को खाने के बाद 10 मिनट जरूर टहलें। इससे  अच्छी नींद आती है।
  • शाम को योग करने से भी नींद अच्छी आ सकती है।
  • इलेक्ट्रॉनिक आइटम से सोने से पहले दूरी बनाएं ।
  • अच्छा म्यूजिक सुनें और बढ़िया किताब पढ़ें। यह उपाय नींद लाने में सहायक हो सकता है।
  • रात को बाहर का खाना खाने से बचें और हल्का
  • खाना ही खाएं।
  • सोने के कम से कम 3 घंटे पहले ही खाना खा लें।
  • दिन में सोने की आदत से बचें।
  • अधिक तरल पदार्थ पीकर सोने से रात में बाथरूम जाने के लिए आपकी नींद खुल सकती है।
  • हमेशा रोज एक ही समय पर सोना चाहिए, इससे यह आपकी आदत में शुमार हो जाएगा।
  • खाली पेट सोने से भूख लगने के कारण नींद खुल सकती है, इसलिए अच्छे से खाकर ही सोएं।
  • अच्छी नींद के फायदे
  • पाचन तंत्र सुचारू रहता है।
  • शरीर का वजन संतुलित रहता है।
  • तन और मन खुशमिजाज रहते हैं।
  • एकाग्रता बढ़ती है।
  • मन चिंतामुक्त रहता है।
  • सिर दर्द और अन्य अंगों के दर्द से राहत मिलती है ।
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।
  • शरीर का वजन संतुलित रहता है और आप तरोताजा महसूस करते हैं।

कम सोने के खतरे 

  • जुकाम और फ्लू का भी खतरा  रहता है।
  • दिल की बीमारियों का दोगुना खतरा।
  • याददाश्त कमजोर हो सकती है।
  • मधुमेह हो सकता है।
  • कब्ज की भी समस्या हो सकती है।
  • समय से पहले मौत भी हो सकती है।

नींद न आने के कारण 

  • मानसिक तनाव
  • अत्यधिक थकावट
  • पेट खराब होना
  • दिनचर्या संतुलित न होना
  • सोने-उठने और खाने-पीने का कोई निश्चित समय न होना।

About एच बी संवाददाता

Check Also

unnamed

तमिलनाडु के मंदिर में भगदड़ से अब तक सात श्रद्धालुओं की मौत, दस गंभीर

तिरुचिरापल्ली। तमिलनाडु के तुरायूर स्थित एक मंदिर में आयोजित धार्मिक अनुष्ठान के दौरान मची भगदड़ में सात …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *