खार्कीव पर रूसी हमले और तेज, रूसी विदेश मंत्री ने दी विश्व युद्ध और महाविनाश की चेतावनी

खार्कीव पर रूसी हमले और तेज, रूसी विदेश मंत्री ने दी विश्व युद्ध और महाविनाश की चेतावनी

कीव। यूक्रेन के दूसरे बड़े शहर खार्कीव में आसमान से आग बरस रही है, तो टैंकों के गोले दीवारें चीरकर लोगों से जान छीन रहे हैं। हमले के सातवें दिन बुधवार को खार्कीव पर रूसी हमले और तेज हो गए। क्रूज मिसाइलों ने नगर परिषद की इमारत और अन्य आबादी वाले इलाकों को निशाना बनाया है। ताजा हमलों के बाद यूक्रेन में दो हजार से ज्यादा लोगों के मारे जाने की सूचना है। हालात की गंभीरता को देखते हुए भारतीय विदेश मंत्रालय ने वहां रह रहे भारतीयों को तत्काल शहर छोड़ने के लिए कहा है। इस बीच रूसी सेनाओं ने बुधवार को यूक्रेन के खेरसान शहर पर कब्जा कर लिया। राजधानी कीव को घेरे रूसी सैनिक उस पर हमले तेज करते हुए और करीब पहुंच गए हैं। बढ़ रही अनिश्चितता के माहौल में कच्चा तेल रिकार्ड ऊंचाई पर पहुंच गया है। बुधवार को वह करीब 110 डालर प्रति बैरल पर पहुंच गया।

हमले के सातवें दिन राजधानी कीव पर कब्जा करने में नाकाम रूसी सेना ने अपने हमले तेज कर दिए हैं। अब वह नागरिक इलाकों में हमले करने में भी परहेज नहीं कर रही है। परमाणु हथियारों को हाई अलर्ट करने के बाद बुधवार को रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने तीसरे विश्व युद्ध की चेतावनी दे दी। कहा, विश्व युद्ध छिड़ा तो उसमें परमाणु हथियारों का इस्तेमाल होना निश्चित है, इसके कारण दुनिया में महाविनाश होगा। इस बीच परमाणु हथियारों से लैस रूस की पनडुब्बी बैरेंट्स सागर में गश्त करती देखी गई है। राष्ट्रपति पुतिन के हाई अलर्ट के आदेश के बाद रूस के परमाणु हथियार हमले के लिए तैयार स्थिति में हैं। रूस ने यूक्रेन में हथियारों की आपूर्ति कर रहे नाटो के देशों पर हमले न करने की गारंटी देने से भी इन्कार कर दिया है। जबकि वाशिंगटन में अमेरिकी संसद को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा है कि रूस को यूक्रेन पर हमले की बड़ी कीमत चुकानी होगी। उन्होंने यूक्रेन की पूरी मदद का एलान किया है।

यूक्रेनी नागरिकों को घर छोड़कर भाग जाने का संदेश देने के बाद रूस ने मंगलवार रात से राजधानी कीव, खार्कीव और अन्य प्रमुख शहरों पर हमले तेज कर दिए। पता चला है कि 15 लाख की आबादी वाले खार्कीव के कुछ इलाकों में रूसी पैराट्रूपर भी उतर चुके हैं और वहां पर उनकी यूक्रेनी सैनिकों से आमने-सामने की लड़ाई हो रही है। पिछले 24 घंटे में खार्कीव में 21 लोगों के मारे जाने और 112 के घायल होने की खबर है। मारीपोल शहर में भी लड़ाई तेज होने की खबर है। कीव में मंगलवार रात यहूदियों के बेबीन यार होलोकास्ट मेमोरियल के पास स्थित टीवी टावर पर रूसी हमले में पांच लोग मारे गए थे। इसके बाद जारी संदेश में जेलेंस्की ने लोगों से बहादुरी से हमले का मुकाबला करने का आह्वान किया। पश्चिमी देशों के सामरिक विशेषज्ञों का अनुमान है कि रूस ने अब अपनी रणनीति बदलते हुए इमारतों पर हमले करने का फैसला किया है। इससे नागरिकों की जान जा सकती है और बड़े पैमाने पर बर्बादी हो सकती है। रूस की रणनीति में यह बदलाव यूक्रेन में कड़ा प्रतिरोध झेलने के बाद हुआ है। रूसी रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगू ने कहा है कि यूक्रेन में लक्ष्य प्राप्त होने तक हमले जारी रहेंगे। उन्होंने युद्ध की समय सीमा बताने से इन्कार कर दिया है।

बुधवार को रूस और यूक्रेन के बीच होने वाली दूसरे दौर की वार्ता खटाई में पड़ गई है। रूसी प्रतिनिधिमंडल वार्ता के लिए तैयार है और वह बेलारूस पहुंच गया है लेकिन यूक्रेन अपना प्रतिनिधिमंडल भेजने का इच्छुक नहीं है। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने कहा है कि रूसी हमलों के बीच शांति के लिए वार्ता करना समय की बर्बादी है। अगर वार्ता करनी है तो रूस पहले हमले रोके।

रूसी विमानों के वायुसीमा में प्रवेश पर प्रतिबंध के चलते बुधवार को जिनेवा में परमाणु निरस्त्रीकरण पर हुई बैठक में रूस के विदेश मंत्री लावरोव वीडियो लिंक के जरिये शामिल हुए। वहां पर उन्होंने कहा, यूक्रेन के पास सोवियत संघ के समय से परमाणु हथियार बनाने की तकनीक है। इसके चलते वह परमाणु हथियार बना सकता है। लावरोव ने कहा, रूस यूक्रेन को परमाणु हथियार नहीं बनाने देगा। लावरोव ने जैसे ही भाषण देना शुरू किया, वैसे ही सभागार में मौजूद विभिन्न देशों के 100 ज्यादा राजनयिकों ने विरोध जताते हुए कुर्सी छोड़कर बाहर चले गए।

यूक्रेन की आपात सेवा ने बताया है कि रूसी हमले से अभी तक दो हजार से ज्यादा नागरिक मारे जा चुके हैं। इसके अतिरिक्त बड़े पैमाने पर आवागमन सुविधा, अस्पताल, स्कूल, आवास आदि को नुकसान पहुंचा है। रूसी हमलों में बच्चे, महिलाएं और सैनिक हर घंटे मारे जा रहे हैं। रूसी हमले के बाद करीब सात लाख लोगों का यूक्रेन से पलायन हुआ है। इनमें से सर्वाधिक साढ़े चार लाख लोग पड़ोस के देश पोलैंड में पहुंचे हैं।

editor

editor

Leave a Reply

Your email address will not be published.