Monday , April 22 2019
Home / प्राइम / इस ग्रह के चंद्रमा पर हैं मीथेन की छोटी और गहरी झीलें
08-saturn-planet

इस ग्रह के चंद्रमा पर हैं मीथेन की छोटी और गहरी झीलें

कैलिफोर्निया : शनि के सबसे बड़े चांद टाइटन पर मीथेन की 100 मीटर से ज्यादा गहरी और छोटी झीलें हैं। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के कैसिनी अंतरिक्ष यान से जुटाए गए डाटा की मदद से वैज्ञानिकों ने यह जानकारी जुटाई है। इस खोज को विज्ञान पत्रिका नेचर एस्ट्रोनॉमी में प्रकाशित किया गया है।

टाइटन हमारे सौरमंडल में धरती के अलावा दूसरा ऐसा खगोलीय पिंड है जिसकी सतह पर तरल मिलने की पुष्टि हुई है। टाइटन पर भी पृथ्वी की तरह एक हाइड्रोलॉजिक चक्र चलता है। हालांकि अंतर यही है कि धरती पर यह चक्र पानी के साथ चलता है, जिसमें समुद्र से पानी वाष्पित होता है, बादल बनते हैं और फिर बारिश हो जाती है। टाइटन पर यह चक्र मीथेन और ईथेन के साथ पूरा होता है।

धरती पर आमतौर पर मीथेन और ईथेन जैसे हाइड्रोकार्बन को गैस माना जाता है। उच्च दबाव में किसी टैंक में भरने पर ही इन्हें तरल में बदलना संभव हो पाता है। वहीं टाइटन पर तापमान इतना कम है कि मीथेन और ईथेन जैसे हाइड्रोकार्बन वहां तरल रूप में ही रहते हैं। पहले के डाटा से यह पता था कि टाइटन के बड़े उत्तरी सागरों में मीथेन भरा है, लेकिन छोटी झीलों में भी ज्यादातर मीथेन का होना चौंकाने वाला है।

इससे पहले कैसिनी ने टाइटन के दक्षिणी गोलार्ध में स्थित बड़ी झील ओंटारियो लेकस का अध्ययन किया था। अध्ययन में पाया गया था कि झील में मीथेन और ईथेन लगभग बराबर मात्रा में हैं। मीथेन की तुलना में ईथेन थोड़ा भारी होता है।

कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के वैज्ञानिक मार्को मैस्ट्रोगिसेप ने कहा, ‘हर खोज के साथ टाइटन का रहस्य गहरा होता जाता है। हालांकि नए डाटा से हमें कई सवालों के जवाब खोजने में मदद मिलेगी। हम टाइटन के हाइड्रोलॉजी चक्र को बेहतर तरीके से समझ सकेंगे।’

अंतरिक्ष यान कैसिनी ने 2004 में शनि की व्यवस्था में प्रवेश किया था। शनि के वातावरण में समा जाने के कारण 2017 में इसका सफर खत्म हो गया था। अपने अभियान के दौरान इसने टाइटन की सतह पर 16 लाख वर्ग किलोमीटर से ज्यादा क्षेत्र में फैली झीलों के डाटा जुटाए थे।

About एच बी संवाददाता

Check Also

indo nepal(1)

भारत-नेपाल मैत्री बस में विस्फोटक सामग्री बरामद, बॉर्डर पर अलर्ट

बनबसा (चम्पावत) : दिल्ली से काठमांडू जा रही भारत-नेपाल मैत्री बस में भारी मात्रा में विस्फोटक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *