Saturday , April 20 2019
Home / घरेलू नुस्खे / घर की दरिद्रता दूर करनी है तो अपनाएं ये टिप्स
download

घर की दरिद्रता दूर करनी है तो अपनाएं ये टिप्स

घर कि दरिद्रता को दूर करने के लिए कुछ चीजें बहुत ही लाभकारी होती हैं। इन चीजों को घर में रखने से परिवार में खुशहाली का माहौल बना रहता है और जिंदगी में शुभ कार्यों की शुरूआत होती है। वास्तु के अनुसार भी कुछ विशेष प्रकार की चीज़ों को घर में रखने से आपको बहुत जल्दी इनके सकारात्मक परिणाम देखने को मिलते हैं जो जीवन की कई परेशानियों का निवारण करते हैं।

  1. वास्तु के अनुसार कुछ चीज़ें ऐसी होती हैं जिन्हे घर में रखना बहुत शुभ माना जाता है तो वहीं कुछ चीज़ों की गलत दिशा के कारण नकारात्मकता हावी होती है।
  2. शुभ चीज़ों को घर में रखने से पैसों की तंगी कभी नहीं रहती है और साथ ही घर में हमेशा सकारात्मक ऊर्जा का संचालन होता रहता है।
  3. वास्तु के अनुसार घर में मिट्टी की सुराही रखनी अत्यंत लाभकारी मानी जाती है। बेडरूम में मिट्टी की सुराही रखने से लाभ मिलता है।
  4. इसके अलावा तुलसी का पौधा भी वास्तु के अनुसार घर में रखना चाहिए इसके लिए सबसे अच्छी उत्तर दिशा होती है वहां तुलसी का पौधा रखने से लाभ मिलता है।
  5. वास्तु के हिसाब से घर में कबूतर का पंख रखना अत्यंत शुभ माना जाता है इससे जीवन में अवश्य ही लाभ मिलता है और सकारात्मकता आती है।
  6. अक्सर देखा जाता है कि कबूतर का पंख टूट कर गिर जाता है ऐसे ही पंख को रखें इसका महत्व ज्यादा होता है और लाभ प्राप्त होता है।
  7. कबूतर के पंख को सफेद कपड़े में बाँधकर घर में रखने से घर में दरिद्रता का नाश होता है और हमेशा सुख-समृद्धि बनी रहती है।
  8. इसके अलावा कबूतर के पंख को लाल कपड़े में बाँधकर तिजोरी में रखने से आपको अवश्य ही इसका लाभ मिलता है और धन की कमी नहीं रहती है।
  9. इस उपाय को करने से घर में लक्ष्मी जी की कृपा बनी रहती है और और मुसीबतें आपके जीवन को कभी प्रभावित नहीं करती हैं।
  10. कबूतर का पंख घर में रखने से आपको जल्द ही आय वृद्धि के संकेत मिलने मिलेंगे और सभी मुसीबतों का निश्चित तौर पर अंत होना शुरू हो जाएगा।

About एच बी संवाददाता

Check Also

ujwala3

पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी के पुत्र रोहित शेखर की अस्थियां गंगा में प्रवाहित

हरिद्वार। पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी के पुत्र रोहित शेखर तिवारी की अस्थियां विधि-विधान के साथ गंगा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *