Saturday , January 19 2019
Home / देश / अगर चुनाव में हमारी हार होती है तो यह पानीपत की लड़ाई में मराठाओं की हार की तरह होगी:अमित शाह
amit-shah-national-concil-m_0_0_0_0

अगर चुनाव में हमारी हार होती है तो यह पानीपत की लड़ाई में मराठाओं की हार की तरह होगी:अमित शाह

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने आगामी लोकसभा चुनाव 2019  की तुलना पानीपत की लड़ाई से की है. पार्टी के राष्ट्रीय अधिवेशन में अमित शाह ने कहा कि अगर चुनाव में हमारी हार होती है तो यह पानीपत की लड़ाई में मराठाओं की हार की तरह होगी. उन्होंने कहा कि चुनाव का परिणाम देश के लिए काफी महत्वपूर्ण होगा. यह विचारधाराओं की लड़ाई है. अमित शाह ने इस दौरान महागठबंधन की संभावनाओं को भी खारिज किया. उन्होंने कहा कि विपक्ष के पास फिलहाल नेतृत्व की कमी है. सभी विपक्षी पार्टियां अगर एक साथ आ रही हैं तो उसका एक कारण उनके निजी स्वार्थ हैं. इस दौरान उन्होंने राम मंदिर को लेकर पार्टी के रुख पर भी बात की.

शाह ने कहा कि अयोध्या में हम जल्द से जल्द राम मंदिर का निर्माण कराने जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस जानबूझकर शुरू से ही इस मुद्दे को लेकर अड़चने पैदा करती रही है. विपक्ष पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि आज विपक्ष जिस महागठबंधन की बात कर रहा है उसका देश भर में कोई औचित्य नहीं है. उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी इस बार भी प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में आने वाली है. पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा कि भले हमें बीते एक दो चुनाव में हार का सामना करना पड़ा हो लेकिन हमें ये भी याद रखना चाहिए कि पीएम मोदी के नेतृत्व में हम आज तक एक भी चुनाव नहीं हारे हैं. 2019 का लोकसभा चुनाव भी हम उनके नेतृत्व में ही लड़ने जा रहे हैं.

उन्होंने कहा कि देश में 130 वर्षो का ऐसा समय आया जब शिवाजी एवं अन्य सेनानियों के नेतृत्व में आजादी की लड़ाई शुरू हुई थी. इसके फलस्वरूप अफगानिस्तान से कर्नाटक और गुजरात से ओडिशा तक बड़ा भूभाग स्वतंत्र हुआ. अमित शाह ने कहा कि दुर्भाग्य से पानीपत के तीसरे युद्ध जो अब्दाली और सदाशिवराव भाऊ के बीच लड़ा गया, उसमें मराठा सेना पराजित हो गई. यह निर्णायक युद्ध था . 131 युद्ध जीतने वाली मराठा सेना एक युद्ध हार गई और इसके कारण 200 साल गुलामी झेलनी पड़ा . शाह ने 2019 के लोकसभा चुनाव को ऐसा ही युद्ध बताया . उन्होंने कहा कि युद्ध कई प्रकार के होते हैं. कुछ युद्ध जय पराजय तक सीमित होते हैं . कुछ युद्धों का प्रभाव एक आध दशक तक होता है. जबकि कुछ युद्धों का प्रभाव सदियों तक रहता है. मैं मानता हूं कि 2019 का युद्ध सदियों तक असर डालने वाला है और इसलिये यह युद्ध जीतना जरूरी है.

शाह ने दावा किया कि 70 साल तक जिन वंचितों, गरीबों के लिये कुछ नहीं किया गया, उनके कल्याण के लिये भाजपा ने प्रयास किया है, यह युद्ध उन गरीबों के लिये है. उन्होंने कहा कि 2019 का चुनाव भारत के गरीब के लिए बहुत मायने रखता है. स्टार्टअप को लेकर निकले युवाओं के लिए ये चुनाव मायने रखता है. करोड़ों भारतीय जो दुनिया में भारत का गौरव देखने चाहते हैं उनके लिए ये चुनाव मायने रखता है. उन्होंने कहा कि एक दूसरे का मुंह न देखने वाले आज हार के डर से एक साथ आ गए हैं, वो जानते हैं कि अकेले नरेंद्र मोदी जी को हराना मुमकिन नहीं है. शाह ने कहा कि 2014 के चुनाव में हम इन दलों को पराजित कर चुके हैं और आगे भी इन्हें पराजित करेंगे. भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि उत्तर प्रदेश में भाजपा की सीट 73 से बढ़कर 74 सीटें होगी, यह 72 नहीं होगी.

अमित शाह ने कहा कि 2019 में भाजपा के नेतृत्व में राजग की सरकार बनेगी. उन्होंने कहा कि 2014 में 6 राज्यों में भारतीय जनता पार्टी की सरकारें थी और 2019 में 16 राज्यों में भाजपा की सरकारें हैं. 5 साल के अंदर भाजपा का गौरव दिन दोगुनी गति से बढ़ा है. अमित शाह ने कहा कि ये अधिवेशन भारतीय जनता पार्टी के देशभर में फैले कार्यकर्ताओं के लिए संकल्प करने का अधिवेशन है. उन्होंने कहा कि भाजपा कार्यकर्ता अजेय योद्धा ‘मोदी’ के नेतृत्व में चुनाव में जा रहे हैं.  ऐसे में कार्यकर्ताओं को जोश में बढ़ना चाहिए लेकिन होश नहीं खोना चाहिए . शाह ने कहा कि भाजपा चाहती है जल्द से जल्द उसी स्थान पर भव्य राम मंदिर का निर्माण हो और इसमें कोई दुविधा नहीं है. राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि कुछ समय से जो स्वयं जमानत पर हैं, जिन पर इनकम टैक्स का 600 करोड़ रुपए बकाया हो, ऐसे लोग मोदी जी पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा रहे हैं. जनता की सूझबूझ बहुत ज्यादा है.

 

मोदी जी का प्रामाणिक जीवन और निष्कलंक चरित्र जनता के सामने है. उन्होंने कहा कि एक जमाना था जब देश में कांग्रेस बनाम अन्य हुआ करता था, आज मोदी बनाम अन्य सभी हो गया है. शाह ने अपने संबोधन में सरकार की जनकल्याण योजनाओं और आंतरिक एवं वाह्य सुरक्षा के मोर्चे पर किए प्रयासों का जिक्र किया और कार्यकर्ताओं से इन्हें जनता तक पहुंचाने का आह्वान किया.

About एच बी संवाददाता

Check Also

mamtraily_18868960_12230347

ममता बनर्जी की महारैली का मिशन 2019, दिग्गज नेताओं का जमावड़ा

कोलकाता। इस साल आम चुनाव से पहले विपक्षी एकता बनाने की जुगत में लगी ममता बनर्जी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *