Sunday , February 24 2019
Home / कारोबार / सरकार ने एसी, रेफ्रिजरेटर और वाशिंग मशीन सहित 19 आइटम्स किए महंगे
270417040424Digcraft-Digital-Signage-e1537983416850

सरकार ने एसी, रेफ्रिजरेटर और वाशिंग मशीन सहित 19 आइटम्स किए महंगे

नई दिल्ली। डालर के मुकाबले गिरते रुपये को थामने के लिए सरकार ने एयर कंडीशनर, रेफ्रिजरेटर और वाशिंग मशीन सहित 19 लग्जरी उत्पादों पर आयात शुल्क में भारी वृद्धि की है। नई दरें बुधवार-वृहस्पतिवार की मध्यरात्रि से प्रभावी हो जाएंगी हैं। केंद्र के इस कदम के बाद अब ये उत्पाद महंगे हो जाएंगे। सरकार ने यह कदम गैर-जरूरी वस्तुओं के आयात में कटौती करने के इरादे से उठाया है ताकि आयात बोझ को हल्का कर चालू खाते के घाटे को काबू किया जा सके।

वित्त मंत्रालय का कहना है कि पिछले वित्त वर्ष में इन वस्तुओं के आयात से देश के आयात बिल में 86,000 करोड़ रुपये का बोझ पड़ा था। मंत्रालय ने जिन अन्य वस्तुओं पर आयात शुल्क बढ़ाया है उनमें वाशिंग मशीन, स्पीकर, कारों के रेडियल टायर, ज्वैलरी, रसोई व टेवल वेयर, प्लास्टिक की कुछ चीजें और शूटकेस शामिल हैं।

वित्त मंत्रालय ने कहा कि केंद्र सरकार बेसिक कस्टम ड्यूटी बढ़ाकर कुछ उत्पादों के आयात को नियंत्रित करने के लिए कदम उठाया है। इन उपायों का मकसद चालू खाते के घाटे को काबू करना है। कुल मिलाकर 19 उत्पादों पर आयात शुल्क बढ़ाया गया है। एसी, रेफ्रिजरेटर और 10 किलो से कम क्षमता वाली वाशिंगमशीनों पर आयात शुल्क बढ़ाकर दोगुना यानी 20 प्रतिशत कर दिया गया है।

इन उत्पादों पर सरकार ने बढ़ाया उत्पाद (दर, प्रतिशत में)

सामान/आइटम मौजूदा दर नई दर
एयर कंडीशनर 10 20
घरेलू रेफ्रिजरेटर्स 10 20
वॉशिंग मशीन 10 20
एसी व रेफ्रिजरेटर 7.5 10
स्पीकर 10 15
फुटवियर 20 25
रेडियल कार टायर 10 15
गैर औद्योगिक हीरा 5 7.5
हीरा- सेमिप्रोसेस्ड 5 7.5
लैब ग्रोन डायमंड 5 7.5
कट और पॉलिश कलर्ड-
जेमस्टोन 5 7.5
आभूषण 15 20
प्लास्टिक बाथ, सिंक-
बेसिन 10 15
बक्से, केस, कंटेनर –
बोतलें 10 15
प्लास्टिक बरतन व –
सामान 10 15
स्टेशनरी और फर्नीचर 10 15
ट्रंक, सूटकेस,बैग 10 15
एटीएफ 0 5

About एच बी संवाददाता

Check Also

tramp 00

पुलवामा आतंकी हमले पर ट्रंप ने किया बड़ा खुलासा, भारत-पाकिस्तान के बीच खराब हालात

वाशिंगटन । पुलवामा आतंकी हमले के बाद अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप का एक बड़ा बयान आया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *