Monday , April 22 2019
Home / प्राइम / चीन ने मसूद अजहर पर ‘टेक्निकल होल्‍ड’ की रिपोर्ट करी खारिज
Masood_Azhar_L_chief_of_the_Jaish_e_Mohammad_JeM_addressing_a_press_conference_in_Karachi._1551175019

चीन ने मसूद अजहर पर ‘टेक्निकल होल्‍ड’ की रिपोर्ट करी खारिज

चीन ने जैश-ए-मुहम्‍मद के सरगना मसूद अजहर पर एक बार फिर अपने इरादे जाहिर कर दिए हैं। बीजिंग के द्वारा उस रिपोर्ट को सिरे से खारिज कर दिया गया है, जिसमें यह कहा जा रहा है कि फ्रांस, ब्रिटेन और अमेरिका ने चीन को मसूद अजहर पर लगाए गए ‘टेक्निकल होल्‍ड’ को 23 अप्रैल तक हटाने को कहा है। खबरें हैं कि मसूद अजहर पर ‘टेक्निकल होल्‍ड’ न हटाने पर तीनों देश चर्चा, मतदान और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में पारित करने के लिए औपचारिक प्रस्ताव लाएंगे। इसके साथ ही चीन ने यह भी दावा किया कि वह इस मुद्दे को समझौते की ओर ले जा रहा है।

बता दें कि पुलवामा आतंकी हमले के बाद फ्रांस, ब्रिटेन और अमेरिका ने संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद की 1267 सेंशन कमेटी के सामने मसूद को अंतरराष्ट्रीय आतंकवादियों की सूची में शामिल करने का प्रस्ताव रखा था। हालांकि, चीन ने ‘टेक्निकल होल्‍ड’ के जरिए इस प्रस्‍ताव को रोक दिया था। इसके बाद ब्रिटेन और फ्रांस के समर्थन पर अमेरिका ने अजहर को ब्‍लैक लिस्‍ट कराने के लिए संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद का रुख किया था। लेकिन, चीन ने इस कदम का विरोध करते हुए कहा था कि मुद्दे का समाधान 1267 सेंशन कमेटी में होना चाहिए जो संयुक्‍त राष्‍ट्र के शीर्ष निकाय के तहत काम करती है।

तीन देशों की ओर से 23 अप्रैल तक ‘टेक्निकल होल्‍ड’ हटाने की समय सीमा से जुड़ी रिपोर्ट पर चीन के प्रवक्‍ता लू कांग ने संवाददाताओं से कहा कि मुझे नहीं पता कि आपको यह जानकारी कहां से हाथ लगी है। संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद और उसकी सहायक निकाय 1267 सेंशन कमेटी की प्रक्रियाएं एवं नियम बिल्‍कुल साफ हैं। इस मुद्दे का समाधान आपसी सहयोग से होना चाहिए। हमें इसका यकीन नहीं है कि सदस्‍यों की सहमति के बिना इस मसले का कोई संतोषजनक हल निकल पाएगा।

गौरतलब है कि फरवरी में हुए पुलवामा आतंकी हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे। पाकिस्‍तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की जिम्‍मेदारी ली थी। भारत इस संगठन के सरगना मसूद अजहर को बड़े शिद्दत से तलाश रहा है। संयुक्‍त राष्‍ट्र में मसूद अजहर को अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर आतंकी घोषित कराने का मुद्दा अभी भी भारत के लिए बड़ी चुनौती बना हुआ है। हर बार इससे जुड़े प्रस्‍तावों पर चीन अड़ंगा लगाता रहा है।

About एच बी संवाददाता

Check Also

indo nepal(1)

भारत-नेपाल मैत्री बस में विस्फोटक सामग्री बरामद, बॉर्डर पर अलर्ट

बनबसा (चम्पावत) : दिल्ली से काठमांडू जा रही भारत-नेपाल मैत्री बस में भारी मात्रा में विस्फोटक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *