Wednesday , November 21 2018
Home / उत्तर प्रदेश / मुख्य चिकित्साधिकारी ने जलवाईं लाखों की दवाएं, बची दवाएं गंगा में फेंकी
16_10_2018-fire_18542264

मुख्य चिकित्साधिकारी ने जलवाईं लाखों की दवाएं, बची दवाएं गंगा में फेंकी

फर्रुखाबाद। सीएमओ कार्यालय परिसर स्थित एक जर्जर भवन को गिराए जाने के दौरान मिलीं सरकारी दवाओं को आग के हवाले कर दिया गया। इस दौरान मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. अरुण कुमार उपाध्याय स्वयं मौजूद थे। दुर्गंध युक्त काला धुआं उठता देख किसी ने जिलाधिकारी मोनिका रानी को सूचना दी। डीएम के आदेश पर सिटी मजिस्ट्रेट आरए चौहान ने जांच के बाद जलने से बची दवाओं व सामग्री को सील करा दिया। जिलाधिकारी मोनिका रानी ने बताया कि नगर मजिस्ट्रेट को जांच के लिए भेजा गया था। जांच रिपोर्ट अभी उन्हें नहीं मिली है। रिपोर्ट के आधार पर जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

बची दवाओं को सील कराया, जांच होगी
मंगलवार को सीएमओ कार्यालय परिसर स्थित जर्जर भवन में काफी संख्या में दवाएं रखी होने की सूचना ठेकेदार ने दी। लाखों रुपये कीमत की परिवार नियोजन संबंधी दवाओं व अन्य सामग्री का स्टाक में रिकार्ड न होने पर सीएमओ ने उनको अपने सामने ही जलवा दिया। डीएम के आदेश पर सिटी मजिस्ट्रेट मौके पर पहुंच गए। उन्हें देख सीएमओ वहां से चले गए। सिटी मजिस्ट्रेट ने जलने से बची दवाओं को अलग कराया। वर्ष 2018, 2019 व 2020 में एक्सपायर होने वाली दवाओं व सामग्री को सील कर दिया। उनके जाने के बाद काफी मात्रा में जलने से बची रह गईं गर्भनिरोधक गोलियां व सामग्री को स्वास्थ्य कर्मी सरकारी वाहन से बरगदिया घाट पर गंगा कटरी और गंगा में फेंक आए। गंगा में दवाओं के पैकेट दूर तक उतराते नजर आए।

सीएमओ डॉ. अरुण कुमार उपाध्याय ने बताया कि जर्जर भवन में कुछ गत्तों में दवाएं रखी थीं। गत्ते बेचने के लिए ठेकेदार के मजदूरों ने दवाओं को जला दिया। यहां दवाएं कैसे पहुंचीं, इसकी जानकारी नहीं है। मामले की जांच के लिए समिति गठित कर दी गई है। दवाएं जलने की सूचना पर डॉ. दलवीर सिंह के साथ मौके पर गए थे। दवाएं जलाने में उनका या उनके विभाग का कोई लेनादेना नहीं है।

About एच बी संवाददाता

Check Also

akshay

मैं सिर्फ पैसों के लिए बॉलीवुड इंडस्ट्री में आया था : अक्षय कुमार

नई दिल्ली: बॉलीवुड एक्टर अक्षय कुमार एक ऐसी बात का खुलासा किया है, जिसके बारे में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *