Monday , April 22 2019
Home / देश / भाजपा- शिवसेना की दोस्ती बनी रही , लोकसभा में भाजपा बड़ी पार्टी; विधानसभा में बराबरी
18_02_2019-amit_shah_18962197_203537913 (1)

भाजपा- शिवसेना की दोस्ती बनी रही , लोकसभा में भाजपा बड़ी पार्टी; विधानसभा में बराबरी

नई दिल्ली। लंबे उहापोह के बाद आखिरकार मंगलवार को तय हो गया कि आगामी लोकसभा चुनाव मे भी भाजपा और शिवसेना की दोस्ती बरकरार रहेगी। साथ रहकर और अलग अलग लड़कर भी बेहतर प्रदर्शन देने वाली भाजपा को लोकसभा में बड़े भाई का दर्जा रहेगा। वह 25 सीटों पर लड़ेगी और शिवसेना 23 पर। जबकि नवंबर में होने वाले विधानसभा चुनाव में दोनों बराबरी से लड़ेगी।

दरअसल, पिछले चार साढ़े चार वर्षो से शिवसेना भाजपा से रिश्ता तोड़ने की बात भले ही करती रही हो, दोनों दलों के अंदर यह स्पष्ट था कि महागठबंधन से लड़ना है तो साझा ही उतरना होगा। मंगलवार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के घर गए। लगभग 50 मिनट तक आपसी चर्चा हुई और फिर साझा प्रेस कांफ्रेंस में ऐलान कर दिया गया कि दोनों साथ ही उतरेंगे। जाहिर तौर पर प्रदर्शन में तुलनात्मक रूप से पिछड़ती रही शिवसेना ज्यादा सीट चाहती थी लेकिन उसे लोकसभा में थोड़ा नीचे संतुष्ट कर भाजपा ने खुद की छवि को बचा लिया।

बताते हैं कि महाराष्ट्र की कुल 48 सीटों में भाजपा जिन 25 सीटों पर लड़ेगी उसमें किसी दूसरे अहम छोटे दल को भी शामिल किया जा सकता है। संभवत: आरपीआइ। कोई अन्य दल भी शामिल हो सकता है। जबकि विधानसभा में बराबरी पर दोनों के उम्मीदवार उतरेंगे।

गौरतलब है कि शिवसेना विधानसभा में बड़े भाई की भूमिका में वापस आना चाहती थी। ऐसे में मुख्यमंत्री पद की दावेदारी मे भी वही दल बाजी मारेगा जो ज्यादा सीटें लाएगा।भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने पिछले सारे मनमुटाव को भुलाकर आगे बढ़ने का वादा किया। शाह ने कहा कि यह दोनों दलों के करोड़ों समर्थकों की इच्छा थी और वह पूरी हुई।

गौरतलब है कि 288 विधानसभा वाले महाराष्ट्र में पिछली भाजपा शिवसेना से बराबरी की सीट मांग रही थी लेकिन वह शिवसेना को मंजूर नहीं था। लिहाजा दोनों दल अलग अलग लड़े थे और भाजपा ने बड़ी जीत पाई थी लेकिन सरकार मिलकर ही बनानी पड़ी। सरकार में रहने के बावजूद नगर निगम चुनाव मे भी दोनों अलग अलग गए लेकिन गठन साथ मिलकर ही करना पड़ा। ऐसे में जब दूसरी ओर से महागठबंधन की कवायद है तो दोनों ने साथ चलना ही उचित माना।

महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना 45 सीटों पर विजय प्राप्त करेंगेः अमित शाह
भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि भाजपा का अगर कोई सबसे पुराने साथी हैं तो वे शिवसेना और अकाली दल है जिन्होंन हर वक्त हमारा साथ दिया है। भाजपा और शिवसेना ने राम मंदिर और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद जैसे कई मुद्दों को दशकों से एकसाथ उठाया है।

हमारे बीच जो भी मनमुटाव था उसे हम आज इसी वक्त यहीं पर खत्म करते हैं। भाजपा और शिवसेना साथ मिलकर महाराष्ट्र में लोकसभा की 45 सीटों पर विजय प्राप्त करेंगे। उन्होंने कहा कि मुझे पूरा पूरा भरोसा है कि आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनाव में बीजेपी और शिवसेना साथ मिलकर सरकार बनाएगी।

About एच बी संवाददाता

Check Also

unnamed

तमिलनाडु के मंदिर में भगदड़ से अब तक सात श्रद्धालुओं की मौत, दस गंभीर

तिरुचिरापल्ली। तमिलनाडु के तुरायूर स्थित एक मंदिर में आयोजित धार्मिक अनुष्ठान के दौरान मची भगदड़ में सात …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *