Wednesday , October 17 2018
Home / Uncategorized / आचार्यकुलम वैदिक और आधुनिक शिक्षा पद्धति के समन्वय का बनेगा केन्द्र : मुख्यमंत्री
CM Photo 03, dt.27 September, 2018

आचार्यकुलम वैदिक और आधुनिक शिक्षा पद्धति के समन्वय का बनेगा केन्द्र : मुख्यमंत्री

हरिद्वार/देहरादून | मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत गुरूवार को हरिद्वार में पतंजलि योगपीठ के नव निर्मित आचार्यकुलम भवन के लोकार्पण कार्यक्रम में सम्मिलित हुए। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह व स्वामी रामदेव ने संयुक्त रूप से आचार्यकुलम के नये परिसर का उद्घाटन किया।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि स्वामी रामदेव द्वारा योग क्रांति के बाद शिक्षा क्रांति का जो संकल्प लिया है, वह भारतीय संस्कृति को सुदृढ़ करने का कार्य भी करेगा। उन्होंने कहा कि 10 हजार छात्रों को शिक्षित करने की क्षमता रखने वाला आचार्यकुलम वैदिक और आधुनिक शिक्षा पद्धति के समन्वय का केन्द्र बनेगा। स्वामी रामदेव विश्व में योग के प्रसार के बाद अब वैदिक शिक्षा पद्धती को विश्व स्तर पर ले जाने की दिशा में अग्रसर हुए हैं। यह मानव निर्माण की प्रयोगशाला है, जहां भविष्य के भारत का निर्माण होगा। भारत को विश्व गुरू बनाने में हम सभी स्वामी रामदेव के इस अभियान में सहयोगी और साथी हैं। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि स्वामी रामदेव भारत के भविष्य का निर्माण कार्य कर रहे है। उन्होंने कहा कि भारत को विश्व गुरू बनाने में पतंजलि योग पीठ का आचार्यकुलम प्रभावी भूमिका निभायेगा। इसके लिये उन्होंने स्वामी रामदेव के प्रयासों की सराहना की।
इस अवसर पर लोकसभा सांसद श्री रमेश पोखरियाल ’निशंक’, राज्यसभा सांसद श्री अनिल बलूनी, कैबिनेट मंत्री श्री मदन कौशिक, विधायक श्री आदेश चौहान, श्री सुरेश राठौर, श्री देशराज कर्णवाल, श्री संजय गुप्ता, उत्तराखण्ड भाजपा प्रभारी श्री श्याम जाजू, पतंजलि योगपीठ के आचार्य बालकृष्ण सहित अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।

About एच बी संवाददाता

Check Also

Photo 01 dt. 16 October, 2018

15वें वित्त आयोग के अध्यक्ष की अध्यक्षता में बैठक आयोजित

देहरादून | 15वें वित्त आयोग के अध्यक्ष एन0के0 सिंह की अध्यक्षता में सचिवालय में वित्त …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *