Monday , April 22 2019
Home / उत्तराखण्ड / 108 एंबुलेंस के पहिए फिर थम
108

108 एंबुलेंस के पहिए फिर थम

देहरादून। प्रदेश में 108 एंबुलेंस और खुशियों की सवारी का संचालन करने वाली कंपनी को सरकार की ओर से बजट का आवंटन न करने की वजह से संचालन प्रभावित होने लगा है। तेल नहीं मिलने और तकनीकी खामी दूर न होने की वजह से प्रदेश में करीब 35 प्रतिशत एंबुलेंस एवं ऽुशियों की सवारी के वाहन ऽड़े हैं। इस वजह से मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।
2008 से राज्य में 108 एंबुलेंस सेवा का संचालन कर रही जीवीके ईएमआरआइ को बजट न मिलने के कारण सेवा पटरी से उतर चुकी है। नई कंपनी कैंप को संचालन का जिम्मा मिला है, पर यह भी अभी तक काम संभाल नहीं पाई है। स्वास्थ्य विभाग जीवीके ईएमआरआइ को एक्सटेंशन पर एक्सटेंशन देता जा रहा है पर बजट का आवंटन सही वत्तफ़ पर नहीं किया जा रहा है जिससे यह सेवा जब तब ठप हो रही है। कंपनी को अप्रैल अंत तक इसका संचालन करना है, लेकिन बजट की कमी के चलते 30 प्रतिशत तक एंबुलेंस सेवा 108 और ऽुशियों की सवारी का संचालन ठप हो गया है।
जीवीके ईएमआरआइ के स्टेट हेड मनीष टिंकू ने बताया कि कंपनी को बीते दो माह से बजट नहीं मिला है। ऐसे में एंबुलेंस सेवा बाधित हो गई है। उन्होंने कहा कि 30 प्रतिशत तक वाहनों पर इसका प्रभाव पड़ा है। उन्होंने दावा किया कि सोमवार तक सभी एंबुलेंस व ऽुशियों की सवारी चलने लगेंगी। प्रदेशभर में 139 एंबुलेंस और 95 ऽुशियों की सवारी हैं। 717 कर्मचारी राज्यभर में तैनात हैं। े

About एच बी संवाददाता

Check Also

ammk_19155061

तमिलनाडु में AMKK ने दो सीटों पर जारी किए उम्मीदवार, करूर से शाहुल को मिला टिकट

चेन्नइ, एएनआइ। तमिलनाडु में लोकसभा चुनाव के साथ ही 18 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हैं। टीटीवी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *